1 oct 20 से लागू 0.1% TCS एक गैर जरूरी कवायद
Vijay Goyal 1st October 2020 41Category: Compliance.(0)

*1 अक्टूबर 20 से लागू 0.1% TCS , का प्रावधान GST registered डीलर से कलेक्ट करना एक गैर जरूरत कवायद है ।*

जबकि एक तरफ GST नंबर आलरेडी PAN नंबर बेस है तो जो भी जानकारी इनकम टैक्स विभाग को चाहिए रियल टाइम पर GST पोर्टल से डायरेक्ट एक्सेस ले कर आसानी से ले सकता है ।

साथ ही हम GST के तहत आलरेडी E इनवॉयस की तरफ बढ़ रहे है जिससे इनवॉइस मैचिंग काफी आसान होने के साथ साथ टैक्स कलेक्शन बढ़ाने में मदद मिलेगी ।

*वर्तमान में लागू 0.1% TCS पटाने का दायित्व सेल्स के अगेंस्ट प्राप्त एडवांस पर भी होने के कारण यह कंप्लाइन्स का व्यापार जगत पर बहुत बड़ा बोझ साबित होगा ।*

*इसके पूर्व GST में भी सेल्स के अगैस्ट एडवांस रिसीव करने पर GST पटाने का दायित्व था जो अवहवारिक होने के कारण सरकार को वापस लेना पड़ा* ।

*इसी तरह सेल्स के अगेंस्ट प्राप्त एडवांस पर TCS पूर्णतः अवहवारिक है व एकाउंटिंग की ट्रैकिंग में बहुत बड़ी कठनाई है ।*

*सरकार ने इस 0.1% TCS टैक्स को कलेक्ट करने की कॉस्ट ,कंप्लाइन्से ,एकाउंटिंग cost ,मॉनिटरिंग कॉस्ट व अंत मे रिफंड कॉस्ट की कोई डिटेल स्टडी नही करवाई है ।वरना वहः इस तरह का गैर जरूरी बोझ GST रेजिस्ट्रेर्ड डीलर के ऊपर कभी भी नही डालती ।*

*इस कदम से व्यापार जगत की काफी वर्किंग कैपिटल रिफंड के रूप में ब्लॉक होने के कारण GST कलेक्शन पर पर विपरीत प्रभाव पड़ना निश्चित है ।*

*सुझाव*

अगर सरकार वास्तव में टैक्स कलेक्शन बढ़ाना चाहती है। तो
*(1)B to C की कैश मेमो के विरुद्ध सेल्स पर KYC नियमो को शिथिल कर देश में बढ़ रही समानांतर अर्थव्यवस्था पर लगाम लगा सकती है । और उसे GST के राजस्व में कम से ₹50000 करोड़ का अतरिक्त वार्षिक इजाफा हो सकता है।*

*(2) इनडाइरेक्ट खर्चो पर GST के ITC का क्रेडिट देना तत्काल बन्द करे*

(3) ट्रांसपोर्ट पर जब आलरेडी RCM के तहत GST भुगतान है तो ट्रकों को खरीद पर GST का इनपुट क्रडिट मिलने के कारण ट्रकों की बिक्री पर मिलने वाले GST राजस्व में काफी कमी दर्ज हुई है । और एक या दो ट्रक के सेल्फ इम्प्लॉईएड लोग कॉम्पीटिसन से पूर्ण तः बाहर हो गए है जिससे ट्रांसपोर्टेशन सेक्टर में रोजगार के नए अवसर भी समाप्त होते जा रहे है।
साथ ही GST राजस्व का भी बहुत बड़ा नुकसान सरकार को हो रहा है।
(4)व्यापार जगत में (इंडस्ट्री को छोड़कर ) कैपिटल एसेट /खर्चो पर दी जा रही ITC क्रेडिट के कारण भी GST के राजस्व में आशातीत वृद्धि दर्ज नही हो पा रही है इसे समाप्त किया जा सकता है । जैसे Mobile हैंड सेट ,एयर कंडीशनर, फर्नीचर ,इत्यादि पर मिलने वाला GST के ITC का इनपुट क्रेडिट

  1. *आपश्री की सार्थक प्रतिक्रिया ,विचार व सुझाव आमंत्रित है।*

Leave a comment